मंगलवार, 1 अगस्त 2017

'वंदे मातरम्' मत बोलें, पर शोर भी न मचाएं कि 'वंदे मातरम' नहीं बोलेंगे..

हरिगोविंद विश्वकर्मा
भारतीय संविधान में देश के राष्ट्रगीत का दर्जा पाने वाला गीत 'वंदे मातरम्' एक बार फिर चर्चा में है। कई मुस्लिम नेता, ख़ासकर जिनकी इमेज कट्टरपंथी नेता की है, वो इसे न गाने के लिए अड़ गए हैं। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लमीन के विधायक वारिस पठान ने तो महाराष्ट्र विधान सभा में यहां तक कह दिया कि उन्हें मार भी डाला जाए तब भी वह 'वंदे मातरम्' नहीं बोलेंगे। इसी तरह कभी सांसद असदुद्दीन ओवैसी या अबु आसिम आज़मी तो कभी आज़म ख़ान जैसे अपरिपक्व नेता चिल्ला-चिल्ला कर कहते हैं कि वे 'वंदे मातरम्' नहीं गाएंगे या 'भारत माता की जय' नहीं बोलेंगे।

भारतवासियों के मूल अधिकारों को महफूज़ रखने के लिए बनाए गए संविधान में तकनीकी तौर पर कहीं भी नहीं लिखा गया है कि सुबह उठकर सबसे पहले 'वंदे मातरम्'का सरगम छेड़ें या ज़ोर से 'भारत माता की जय' बोलें। संविधान में यह भी नहीं लिखा है कि जो लोग 'वंदे मातरम्'गाएंगे या 'भारत माता की जय' बोलेंगे, केवल वही लोग देशभक्त कहलाएंगे, बाक़ी देशभक्त नहीं कहलाएंगे। परंतु पूरे भारतीय संविधान के किसी भी अनुच्छेद में कहीं भी ये नहीं लिखा है, कि सार्वजनिक तौर पर चिल्ला-चिल्ला कर या फतवा जारी करके कहें कि 'वंदे मातरम्' नहीं गाएंगे या 'भारत माता की जय' नहीं बोलेंगे।

यह देश इतना उदार है कि किसी को किसी से किसी बात के लिए सर्टिफिकेट या इजाज़त लेने की कोई ज़रूरत नहीं है। ओवैसी, आज़मी या पठान जैसे नेताओं को न तो किसी दूसरे नेता से देशभक्ति लेने का सर्टिफिकेट लेने की ज़रूरत है न देने की। लिहाज़ा, कोई व्यक्ति या संगठन अपने को देशभक्तऔर दूसरे को अदेशभक्तभी नहीं कह सकता। देशभक्ति ऐसी चीज़ है जिसे कम से कम साबित करने की कोई ज़रूरत नहीं। किसी को यह साबित नहीं करना है कि वह वह देशभक्त हैं या नहीं। देशभक्ति नागरिक के बात-व्यवहार से ही झलकती है।

जहां तक वंदे मातरम् की बात है तो स्वतंत्रता संग्राम में इस गाने की ज़बरदस्त धूम थी। इसके बावजूद जब राष्ट्रगान के चयन की बात आई तो वंदे मातरम् के स्थान पर रवींद्रनाथ ठाकुर के 'जन गण मन' को वरीयता दी गई। दरअसल, कई कट्टरपंथी मुसलमानों को तब भी 'वंदे मातरम्' गाने पर आपत्ति थी, क्योंकि इस गीत में देवी दुर्गा को राष्ट्र के रूप में देखा गया है। उनका यह भी मानना था कि यह गीत जिस उपन्यास 'आनंद मठ' से लिया गया है, वह मुसलमानों के ख़िलाफ़ लिखा गया है। इन आपत्तियों पर सन् 1937 में कांग्रेस ने गहरा चिंतन किया। जवाहरलाल नेहरू की अगुआई में समिति का गठन किया गया, जिसमें मौलाना अबुल कलाम आज़ाद, सुभाषचंद्र बोस और आचार्य नरेंद्र देव भी शामल थे। समिति ने 28 अक्टूबर 1937 को कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में अपनी रिपोर्ट पेश की। जिसमें 'जन गण मन' को राष्ट्रगान और वंदे मातरम् एवं मोहम्मद इकबाल के कौमी तराने 'सारे जहां से अच्छा' को राष्ट्रगीत बनाने की सिफ़ारिश की गई।

बहरहाल, 14 अगस्त 1947 की रात्रि में संविधान सभा की पहली बैठक का आरंभ वंदे मातरम्के साथ और समापनजन गण मन..के साथ हुआ। आज़ादी के बाद डॉ राजेंद्र प्रसाद ने संविधान सभा में 24 जनवरी 1950 को 'वंदे मातरम्को राष्ट्रगीत के रूप में वाला बयान पढ़ा जिसे हिंदू, मुसलमान, सिख, ईसाई और पारसी सभी धर्मों के प्रतिनिधियों ने आम राय से स्वीकार किया। राजेंद्र प्रसाद ने कहा, "शब्दों की वह संगीतमय रचना जिसे जन गण मन से संबोधित किया जाता है, भारत का राष्ट्रगान है; बदलाव के ऐसे विषय, अवसर आने पर सरकार अधिकृत करे और वंदे मातरम् गान, जिसने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में ऐतिहासिक भूमिका निभाई है; को जन गण मन के समकक्ष सम्मान व पद मिले। मैं आशा करता हूँ कि यह सदस्यों को संतुष्ट करेगा।" इलके बाद 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू होने के बाद वंदे मातरमको औपचारिक रूप से राष्ट्रगीत और जन गण मनराष्ट्रगान बना दिया गया।

वंदे मातरम् भारत में बेहद लोकप्रिय रहा है। कट्टरपंथी मुसलमान इसका जितना विरोध कर रहे हैं, यह गीत उतना ही फैल रहा है। अभी सन् 2002 में ब्रिटिश ब्रॉड कॉरपोरेशन बीबीसी ने सर्वेक्षण किया था, जिसके मुताबिक वंदे मातरम्विश्व का दूसरा सर्वाधिक लोकप्रिय गीत है। इसे हर धर्म के लोग गाते हैं, केवल चंद कट्टरपंथी मुसलमानों को ही इस गीत पर संदेह रहता है। गीत की रचना से ही हिंदू इसे गर्व से गाते रहे हैं, जबकि बहुमत में मुसलमान ख़ासकर कट्टर मुसलमाल इसे शायद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का गीत समझ कर इससे परहेज करते हैं। पिछले साल ओवेसी ने तो यहां तक कह दिया था, “गर्दन पर छूरी रख दो तब भी वंदे मातरम्या 'भारत माता की जय' नहीं बोलूंगा।"

दरअसल, सम्मान या भक्ति या देशभक्ति प्रदर्शित करने की चीज़ नहीं। लोग स्वेच्छा से माता-पिता, बड़ों और देश के प्रति सम्मान और भक्ति प्रदर्शित करते हैं। अगर कोई व्यक्ति अपने माता-पिता, बड़ों-बुजुर्गों या देश का सम्मान न करे, तो लोग उससे यह नहीं कहेंगे कि तुम सम्मान करो या भक्ति दिखाओ। सच पूछो तो सम्मान, भक्ति या देशभक्ति इंसान के अंदर ख़ुद पैदा होती है। इस तरह भी कह सकते हैं कि सम्मान या भक्ति या देशभक्ति सच्चे नागरिक यानी सन ऑफ़ सॉइल की पर्सनॉलिटी में इनबिल्ट होती है। इसलिए वंदे मातरम्गाएं या न गाएं, इस महान देश को कोई फ़र्क नहीं पड़ता। हां, ज़िम्मेदार, गंभीर और समझदार नागरिक पब्लिकली कोई ऐसी ओछी बातें नहीं करते, जिससे किसी को उसकी निष्ठा पर उंगली उठाने का मौक़ा मिले।

वंदे मातरम् या भारत माता की जय जैसे मुद्दे केवल मुस्लिम नेता ही नहीं उठाते हैं। कई इस्लामिक तंजीमें भी इस तरह की आग में तेल डालती रहती हैं। उत्तर प्रदेश सहारनपुर के दारुल उलूम देवबंद का फतवा भी है कि मुसलमान न तो वंदे मातरम् गाएंगे न ही भारत माता की जय बोलेंगे। मुफ़्तियों की खंडपीठ मानती है, इंसान को जन्म इंसान ही दे सकता है, तो धरती मां कैसे हो सकती है। मुसलमान अल्लाह के अलावा किसी की इबादत नहीं कर सकता तो भारत को देवी कैसे मानें। इसी आधार पर देवबंद ने कहा कि भारत माता की जय बोलना इस्लाम में नहीं है। लिहाज़ा मुसलमान भारत माता की जय नहीं बोलेंगे।

दरअसल, इस्माल की ग़लत व्याख्या करने वाले नीम हकीम मुफ़्ती हमेशा अपनी क़ौम का नुकसान करते आए हैं। यहां इनका तर्क है कि लोग पृथ्वी को मां नहीं कह सकते, क्योंकि उन्हें पृथ्वी ने पैदा नहीं किया, बल्कि उन्हें उनकी मां ने पैदा किया है। यह बड़ी अजीब और हास्यास्पद हालत है। इन जाहिलों को कौन समझाए कि इंसान जिससे भोजन लेता है, उसी के लिए उसकी ज़ुबान से मां शब्द निकलता है। वस्तुतः मां परवरिश की सिंबल है। बच्चा पैदा होने के बाद जिस स्त्री का स्तनपान करता है,उसे मां कहता है। इसी तरह पृथ्वी यानी धरती भी मां हैं,क्योंकि ज़िंदगी भर इंसान भोजन धरती से ही लेता है और धरती के हिंद महासागर क्षेत्र में कुल 3,287,263 वर्ग किलोमीटर भूभाग पर फैले हुए हिस्से को भारत, हिंदुस्तान और इंडिया कहा जाता है। चूंकि यही भूखंड यहां पैदा होने और पलने-बढ़ने वालों को भोजन देता है, इसलिए इस भूखंड को सम्मान से भारत माता कहा जाता है।

कहने का मतलब भारत माता ही भारत यानी भारतवर्ष है। जिसका अस्तित्व दुनिया में एक राष्ट्र के रूप में है। एक संपूर्ण स्वाधीन और लोकतांत्रिक राष्ट्र, जो 29 राज्यों और सात केंद्र शासित क्षेत्रों में विभाजित है। इस भूखंड पर रहने वाला हर नागरिक केवल और केवल भारतीय यानी भारतवासी है। बिना किसी संदेह के भारतीयता इस देश का सबसे बड़ा धर्म है। किसी कबिलाई कल्चर की तरह नहीं, बल्कि इस देश को एक सभ्य देश की तरह चलाने के लिए एक वृहद संविधान बनाया गया है, वह देश का सबसे बड़ा धर्मग्रंथ है। हिंदुत्व हो, इस्लाम हो या फिर ईसाइयत या फिर दूसरा कोई धर्म, सभी धर्म भारतीयता नाम के इस धर्म के सामने बौने हैं। इसी तरह देश के धर्मग्रंथ यानी भारतीय संविधानके आगे गीता, क़ुरआन और बाइबल सबके सब दूसरी वरीयता के धर्म हैं। यही अंतिम सच है, इस पर तर्क-वितर्क की कोई गुंजाइश नहीं।

कोई नागरिक अगर हिंदू धर्म को भारतीयता से ऊपर और गीता को भारतीय संविधान से बड़ा मानता है, तो उसे धरती पर ऐसी जगह खोजनी चाहिए, जहां भारत, भारतीयता या भारतीय संविधान न हो। कोई नागरिक अगर इस्लाम को भारतीयता से ऊपर और क़ुरआन को भारतीय संविधान से बड़ा मानता है, तो उसे भी धरती पर ऐसी जगह चले जाना चाहिए, जहां भारत, भारतीयता या भारतीय संविधान न हो। इसी तरह अगर कोई भी नागरिक अपने धर्म को भारतीयता से ऊपर और अपने धर्मग्रंथ को भारतीय संविधान से ऊपर मानता है, तो उसे भी धरती पर ऐसी जगह खोजनी चाहिए, जहां भारत, भारतीयता या भारतीय संविधान न हो। और जब तक इस भारतीय भूखंड पर आप हैं, आप सबसे पहले आप भारतीय हैं, न कि हिंदू, मुस्लिम या ईसाई। इस संप्रभु, सामाजिक और सेक्यूलर देश में हर नागरिक को लिखने, बोलने और धर्म अपनाने की पूरी आज़ादी मिली है। बोलने-लिखने की आज़ादी इतनी ज़्यादा है कि लोग देश के सर्वोच्च शासक प्रधानमंत्री तक की आलोचना करते हैं। उसके फ़ैसलों से सार्वजनिक तौर पर असहमति जताते हैं। इसी आज़ादी के चलते आजकल देश का विभाजन व देश के टुकड़े करने की बात कहना, राष्ट्रगान या राष्ट्रगीत के बारे में अप्रिय बात करना या भारत माता की जय न बोलने की बात करना फैशन सा बन गया है।


दरअसल, वंदे मातरम् बोलने या न बोलने पर विवाद ही नहीं होना चाहिए था। आतंकवाद और ट्रिपल तलाक़ के मुद्दे से मुसलमानों का पहले ही बहुत ज़्यादा नुकसान हो चुका है। लिहाज़ा, ख़ुद मुसलमानों को ही आगे आकर वंदे मातरम् के बारे में अनाप-शनाप बोलने वालों का विरोध करना चाहिए। वंदे मातरम् या भारत माता की जय को विवाद का विषय बनाने वालों का बहिष्कार करना चाहिए। वरना यह मसला मुसलमानों को मुख्यधारा से अलग-थलग कर सकता है। इतना ही नहीं, यदि मुसलमान चुप रहे तो यह संदेश देने की साज़िश भी की जा सकती है कि हर मुसलमान की यही भावना है, जबकि यह सच नहीं है। ओवैसी जैसे मुट्ठी भर लोगों को छोड़ दिया जाए तो देश का आम मुसलमान उसी तरह देशभक्त है, जिस तरह हिंदू। उसे किसी से देशभक्ति का प्रमाणपत्र लेने की ज़रूरत नहीं है। बस इस मसले पर संवेदनशील होने की ज़रूरत है और बहके हुए लोगों से कहना चाहिए कि 'वंदे मातरम्' या'भारत माता की जय' मत बोलें, पर शोर भी न करें कि 'वंदे मातरम्' या 'भारत माता की जय' नहीं बोलेंगे।
एक टिप्पणी भेजें